X
  • On19th March 2016
Categories: Important GK Notes

Important Question of Hindi Vyakaran for RPSC Teacher and other Government Exams

Important Question of Hindi Vyakaran for RPSC Teacher and other Government Exams

Important Questions Related to RPSC Teacher Exam Practice The Rajasthan Public Service Commission (RPSC) is conducting various examinations at the various centers. A lot of candidates participated in the various kind of exams. In this article we provide the some important questions related to the examination. Candidates can read the important questions and check the more quizzes in the Hindi.

!!! Latest Govt Jobs 2016
 

!!! Free Mock test for All Exam
 

!!! Important Study Notes for All Exam
 

Important Question of Hindi Vyakaran for RPSC Teacher Exams

We provide more quizzes for the exam preparation. Here candidates can also check the five free mock test of the Rajasthan Public Service Commission (RPSC) teacher. It is very helpful for those candidates who preparing of the competition exams like that RPSC 1st Grade Teacher, RPSC 2nd Grade Teacher, RPSC 3rd Grade Teacher, IAS, RAS, SSC, Banking, IBPS, SBI, Food corporation of India (FCI), Union Public Service Commission (UPSC) and all remaining government or private sector jobs.

>>हिंदी व्याकरण के महत्वपूर्ण प्रशन !!

>>शिक्षक परीक्षा अभ्यास से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न!!

>>राजस्थान RPSC जी के वस्तुनिष्ठ प्रश्न हिन्दी में !!

>>शिक्षक परीक्षा के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न !!

>>RPSC 1 ग्रेड शिक्षक व सभी सरकारी नौकरियों के लिए महत्वपूर्ण प्रश्न !!

>>राजस्थान सामान्य ज्ञान (GK) Notes !!

>>राजस्थान का इतिहास, संस्कृति, साहित्य, परंपरा के बारे मे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

 

भाषा,लिपि और व्याकरण

भाषा

मनुष्य ,अपने भावों तथा विचारों को दो प्रकार ,से प्रकट करता है-

  1. बोलकर (मौखिक )
  2. लिखकर (लिखित)
  3. मौखिक भाषा :- मौखिक भाषा में मनुष्य अपने विचारों या मनोभावों को बोलकर प्रकट करते है।
  4. लिखित भाषा:-भाषा के लिखित रूप में लिखकर या पढ़कर विचारों एवं मनोभावों का आदान-प्रदान किया जाता है।

हिन्दी वर्णमाला

स्वर :- अ आ इ ई उ ऊ ए ऐ ओ औ अं अः ऋ ॠ

व्यंजन :-

क ख ग घ ङ

च छ ज झ ञ

ट ठ ड ढ ण

त थ द ध न

प फ ब भ म

य र ल व

स श ष ह

क्ष त्र ज्ञ

लिपि:-

लिपि का शाब्दिक अर्थ होता है -लिखित या चित्रित करना । ध्वनियों को लिखने के लिए जिन चिह्नों का प्रयोग किया जाता है,वही लिपि कहलाती है।

प्रत्येक भाषा की अपनी -अलग लिपि होती है। हिन्दी की लिपि देवनागरी है। हिन्दी के अलावा -संस्कृत ,मराठी,कोंकणी,नेपाली आदि भाषाएँ भी देवनागरी में लिखी जाती है।

व्याकरण :-

व्याकरण वह विधा है,जिसके द्वारा किसी भाषा का शुद्ध बोलना या लिखना जाना जाता है। व्याकरण भाषा की व्यवस्था को बनाये रखने का काम करते है।

व्याकरण भाषा के शुद्ध एवं अशुद्ध प्रयोगों पर ध्यान देता है। इस प्रकार ,हम कह सकते है कि प्रत्येक भाषा के अपने नियम होते है,उस भाषा का व्याकरण भाषा को शुद्ध लिखना व बोलना सिखाता है। व्याकरण के तीन मुख्य विभाग होते है :-

  • वर्ण -विचार :- इसमे वर्णों के उच्चारण ,रूप ,आकार,भेद,आदि के सम्बन्ध में अध्ययन होता है।
  • शब्द -विचार :- इसमे शब्दों के भेद ,रूप,प्रयोगों तथा उत्पत्ति का अध्ययन किया जाता है।
  • वाक्य -विचार:- इसमे वाक्य निर्माण ,उनके प्रकार,उनके भेद,गठन,प्रयोग, विग्रह आदि पर विचार किया जाता है।

हिन्दी संज्ञा

परिभाषा – संज्ञा का शाब्दिक अर्थ होता है : नाम। किसी व्यक्ति,वस्तु,स्थान तथा भाव के नाम को संज्ञा कहा जाता है अर्थात किसी व्यक्ति, स्थान, वस्तु आदि तथा नाम के गुण, धर्म, स्वभाव का बोध कराने वाले शब्द को संज्ञा कहते हैं। जैसे – श्याम, आम, मिठास, हाथी आदि।

संज्ञा के प्रकार :-

  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा
  2. जातिवाचक संज्ञा
  3. भाववाचक संज्ञा
  4. समूहवाचक संज्ञा
  5. द्रव्यवाचक संज्ञा

मुख्य रूप से संज्ञा तीन प्रकार की होती है’ –

  • व्यक्तिवाचक संज्ञा।
  • जातिवाचक संज्ञा।
  • भाववाचक संज्ञा।

व्यक्तिवाचक संज्ञा:- जिस शब्द से किसी एक विशेष व्यक्ति,वस्तु या स्थान आदि का बोध होता है, उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते है। राम

जातिवाचक संज्ञा :- जिस शब्द से एक ही जाति के अनेक प्राणियो या वस्तुओं का बोध हो ,उसे जातिवाचक संज्ञा कहते है। जैसे – कलम

भाववाचक संज्ञा :- जिस संज्ञा शब्द से किसी के गुण,दोष,दशा ,स्वभाव ,भाव आदि का बोध होता हो, उसे भाववाचक संज्ञा कहते है। जैसे -ईमानदारी

समूहवाचक संज्ञा :- जो संज्ञा शब्द किसी समूह या समुदाय का बोध कराते है, उसे समूहवाचक संज्ञा कहते है । जैसे -भीड़

द्रव्यवाचक संज्ञा :- जो संज्ञा शब्द ,किसी द्रव्य ,पदार्थ या धातु आदि का बोध कराते है, उसे द्रव्यवाचक संज्ञा कहते है। जैसे -,दूध ,पानी आदि।


 


यहाँ क्लिक करें—राजस्थान इतिहास और राजनीति विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रशन आगामी परीक्षाओ के लिए (5 दिसंबर को अपडेट किया है)

यहाँ क्लिक करें:-राजस्थान की जनगणना लिंगानुपात और साक्षरता जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

Click here for:- राजस्थान सरकारी नौकरियो के लिए सामान्य ज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्‍न (हिन्दी मे)

Click here for:– राजस्थान सरकारी नौकरियो के लिए सामान्य ज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्‍न (हिन्दी मे) भाग 2

Click here for:– राजस्थान सरकारी नौकरियो के लिए सामान्य ज्ञान के महत्वपूर्ण प्रशन (हिन्दी मे) भाग 3

यहाँ क्लिक करें:-राजस्थान की खनिज संपदा से सम्बन्धित महत्वपूर्ण प्रशनो लिए यहाँ क्लिक करें (हिन्दी मे)

यहाँ क्लिक करें: राजस्थान जी के महत्वपूर्ण प्रशनो के लिए यहाँ क्लिक करें (हिन्दी क्विज़ 1)

यहाँ क्लिक करें:  राजस्थान जी के महत्वपूर्ण प्रशनो के लिए यहाँ क्लिक करें (हिन्दी क्विज़ 2)

यहाँ क्लिक करें: बेसिक कंप्यूटर नालेज के लिए यहाँ क्लिक करें

Click Here for:राजस्थान का इतिहास, संस्कृति, साहित्य, परंपरा के बारे मे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

This post was last modified on March 19, 2016, 12:08 pm

allexam: Having done my graduation from technical university in B.Tech, I currently write for allexam.co.in. I write to keep track of all relevant information related to the Latest Govt Jobs and to create doorways for the aspirants.

View Comments

Leave a Comment